sparsh edition Feb 2017

भारत

मेरा देश है सबसे प्यारा,
सब जग में न्यारा |

     भारत में पर्यटक आते ,
     प्रसन्न मन से जाते |

More

बरसात का मजा

बरसात का इतना अच्छा मजा,
इसमें ना कोई सजा |
मैं तो पूरा भीग जाता हूँ,
गीला-गीला हो जाता हूँ |

More

मेरा बचपन

मै आज भी अपने बचपन को याद करकर हूँ मुड़ता
काश! वह लम्हा हमेशा के लिए रुकता,
परंतु वक़्त किसी की नहीं सुनता,
मैं प्रतिदिन अपने बचपन को स्मरण करता ही रहता।

More

बचपन

बचपन है सबसे अच्छा ,
बचपन में आज़ादी ,
बड़े होने पर गुलामी ,
बचपन है सबसे अच्छा |

More

पानी की जरूरत

पानी की जरूरत,
पानी चाहिए हमें |
       क्योंकि पानी होता हैं ज़रूरी
       सिर्फ हमारे लिए ही नही,
       पशु–पक्षी और पेड़–पौधों
       को भी चाहिए पानी |
       इसलिए पानी है इतना अनमोल |
स्वर – २ बी

(हमारे कक्षा में प्रतिक्रिया के तरह हम सभी को एक अख़बार दिया गया था, जिससे हमें कठिन शब्जी को लेकर एक कहानी बनाना था। मुझे यह शब्द मिले:
अलगाववादी , मेजबानी, इंसानियत, निजी, दफन, दिवंगत, प्रतिपक्ष, गुलाम, आह्वान )

एक ईमानदार गुलाम
-----महती कट्टमुरी , कक्षा ९ A

पुराने राज्य में एक अमीर परिवार के साथ एक बूढ़ा गुलाम था। वह सहयोगी, परिश्रमी, सच्चा , और ईमानदार आदमी था और अपने पैसे के लिए बहुत काम करता था। वह निजी स्वार्थ से दूर था, और सिर्फ दूसरों के

More